What is Accounting in Hindi? Type Of Accounting and Advantage of Accounting in Hindi के बारे में पूरी जानकारी अकाउंटेंट बनने से पहले ये जानकारी अवश्य होना चाहिए आसान भाषा में बताने वाली हूं Accounting पूरी जानकारी पूरी जानकारी (With Picture) By Hindi Accounting

What is Accounting in Hindi? 

लेखांकन क्या है? लेखांकन की परिभाषा और प्रकार -

एकाउंटिंग क्यों आवश्यक है सभी के लिए ?

चाहे आप एक बिज़नेस मेन हो या कोई जॉब करते हो या आप एक स्टूडेंट एकाउंटिंग के बेसिक 

नॉलेज सबको होगा चाहिए 

एकाउंटिंग आपकी लाइफ में किसी न किसी रूप में जुडी हुयी होती ही है जैसे एक बिज़नेस मेन को 

बिज़नेस की बुक के लिए 

एक जॉब वाले को सैलरी और असेस्ट्स एंड लिएबिलिटीज़ का ज्ञान होना चाइये अगर आप एक 

स्टूडेंट है तो आगे आपके ये बहुत काम आने वला है अगर आप शेयर मार्किट में इन्वेस्ट करते हो तो 

इसके लिए भी आपको फंडामेंटल जानने के लिए एकाउंटिंग का ज्ञान होना चाहिए

तो आये जानते है बहुत सरल भाषा में एकाउंट्स के बारे में hindiaccounting.in के साथ -



Accounting kya hai ?

-लेखांकन एक कला और विज्ञान है जो वित्तीय डेटा से संबंधित है जिसमें डेटा व्यवस्थित किया जाता है।

लेखांकन एक ऐसी प्रणाली है जिसके द्वारा वित्तीय डेटा को ठीक से समझने के लिए रिकॉर्ड किया जाता है।

अकाउंटिंग को हिंदी में लेखांकन भी कहते हैं।

कंप्यूटर की जानकारी शार्ट KEY के लिए - यहाँ क्लिक करे 

Basic Accounting meaning in Hindi me Accounting -

लेखांकन सभी वित्तीय लेनदेन को रिकॉर्ड करता है, यह उन सभी लेनदेन को रिकॉर्ड करता है जो किसी व्यवसाय से संबंधित हैं, जो मूर्त या अमूर्त हो सकते हैं।

अकाउंटिंग के कितने प्रकार होते है (Type of Accounts? Hindi Accounting)

अकाउंटिंग के 3 टाइप होते हैं - Main type of accounts - एकाउंटिंग को कितने भागो में बाँटा गया है 

1. 1. Real Account (वस्तुगत खाते )

2. 2. Personal account (व्यक्तिगत खाते)

3. 3. Nominal account / P&L Account

 एक अच्छा और सीनियर अकाउंटेंट बनने के लिए- यहाँ क्लिक करे 

1. Personal Accounts- (व्यक्तिगत खाते - About Personal Accounts in Hindi Accounting)

वे खाते जो किसी व्यक्ति, कंपनी, फर्म या संस्था से जुड़े हैं उनके व्यक्तिगत खाते कहते हैं, 

व्यक्तिगत खाते में वो सब आते हैं जिन्हे आपको लेने या देना है,

जेसे की निम सबी खाते -

- किसी व्यक्तिगत का खाता

- बैंक खाते

- पूंजी खाते

- ग्राहक / विक्रेता / आपूर्तिकर्ता खाते

- वित्तीय और संस्थान खाते

- आहरण खाते

- A-Z प्रा। लिमिटेड / लिमिटेड / एलएलपी / एलएलसी आदि। (Learn more)

 कंप्यूटर की जानकारी शार्ट KEY के लिए - यहाँ क्लिक करे 

व्यक्तिगत अकाउंट के मुख्य नियम Personal accounts Golden Rules in Hindi Accounting  –

1. प्राप्त करने वाले को डेबिट करो (रिसीवर को डेबिट करें)

2. भेजने वाले को क्रेडिट करो (Credit the Giver)

 Accounting Golden Rules- Click Here

2. Real Accounts (वस्तुगत खाते/वास्तविक खाते- About Real Accounts in Hindi Accounting )

व्यापार के ऐसे खाते जो वास्तु सामान या संपत्ति से संबंधित है, वास्तविक अकाउंट के अंदर वो सभी 

आते है जिनका व्यापर में ख़रीदा गया हो या बेचा गया हो जिसका लेन देन लिया गया हो 

वस्तुगत खाते के प्रकार कितने होते है (Type of Real Accounts ) 

1.मूर्त वास्तविक खाते Tangible Real Accounts - About Tangible Accounts 

एस में एसेट्स समिल है वो विशालव में है या जिन्हे चुआ जा सकता हो जेसे की -

- भूमि खाता

- बिल्डिंग अकाउंट

- मशीनरी खाता

- फर्नीचर खाता


2.अमूर्त वास्तविक खाते intangible Real Accounts - About intangible Accounts 

ऐसी संपत्तियां जो दिखें नहीं देते हैं जिन्हे जुहा या महसुस नहीं किया जा सकता।

- सद्भावना खाते / Goodwill Accounts

- पेटेंट खाता

- कॉपीराइट खाते

- ट्रेडमार्क

एक अच्छा और सीनियर अकाउंटेंट बनने के लिए- यहाँ क्लिक करे 


वास्तविक खातों के सुनहरे नियम – Real Account Golden rules by e-accountant

1. ऐसे सभी वस्तु जो व्यापार में आती हो, को Debit करो। ( Debit- Coming in business )

2. ऐसे सभी  वस्तु जो व्यापार से जाती हो को क्रेडिट करो ( Credit- Going out )

 

3.Nominal accounts / P&L Accounts / - नाममात्र का लेखा-जोखा-नाममात्र का खाता:

About Nominal Accounts in Hindi  Accounting

एस अकाउंट मी इनकम या खरचे को दिखया जया है, जिस से हम P&L अकाउंट की जानकारी 

मिलती है।

नाममात्र खातों के सुनहरे नियम- Golden Rules of Nominal Accounts

1.सभी करचो या नुकसान को डेबिट करो

2.सबी इनकम या प्रॉफिट को क्रेडिट करो

 कंप्यूटर की जानकारी शार्ट KEY के लिए - यहाँ क्लिक करे 

नाममात्र खाते के कितने प्रकार होत है ? नॉमिनल अकाउंट्स के विभीन प्रकार- Type of Nominal accounts 

  • Salary account
  • Interest account
  • Wages accounts
  • Sales accounts
  • Purchase accounts
  • Commission receives
  • Commission pays
  • Insurance accounts etc.

 एक अच्छा और सीनियर अकाउंटेंट बनने के लिए- यहाँ क्लिक करे 

अकाउंटिंग के फ़ायदे / महत्व / उपयोग importance of Accounting / use of accounting / Advantages of accounting

1. एक व्यापार में दैनिक बहुत सारे लेन-देन होते हैं कुछ नागद तो कुछ उधारी में सबको याद नहीं रखा जा सकता है इन्सब को सुवायवस्थित रखने या गलतियों की संभावना कम करना एक बड़ा महतव है

2. ट्रांजेक्शन मी पेमेंट से जुडी समय आने पे नए में प्रमाण के रूप में प्रस्तुत किया जा सकता है

3. अकाउंटिंग हम बिजनेस का फाइनेंशियल रिपोर्ट बनाना मे हेल्प कर्ता जेसे

  • लाभ और हानि खाते
  • निशान संतुलन
  • तुलन पत्र
  • विक्रेता का बयान
  • देनदार / लेनदार
  • संपत्ति / ऋण / देनदारी।
  • टर्नओवर खरीद आदि।

4.  सैलरी खार्च या बोनस के कैलकुलेशन में हेल्प करता ह I

Important Links -



👉आपको ये जानकारी कैसी लगी और क्या आपने  इस लेख में कुछ नया सीखा? अगर इस लेख से संबंधित कोई सुझाव या सवाल हो तो इन सबके लिए Comment Box हमेसा खुला है. इस जानकारी को अपने दोस्तों में शेयर कीजिए और ऐसे ही लेख पढ़ने और कुछ नया सिखने लिए हमारे ब्लॉग को Subscribe करें.धन्यवाद आपकी दोस्त संजना 🔔🔔🔔

By e-Accounting (Hindiaccounting)

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ